591 : – जल में मूत्र त्याग न करें। 591 : – jal mein mootr tyaag na karen. 592 : – नग्न होकर जल में प्रवेश न करें। 592 : – nagn hokar jal mein pravesh na karen. 593 : – जैसा शरीर होता है वैसा ही ज्ञान होता है।Continue Reading

471 : – नीच की विधाएँ पाप कर्मों का ही आयोजन करती है। 471 : – neech kee vidhaen paap karmon ka hee aayojan karatee hai. 472 : – निकम्मे अथवा आलसी व्यक्ति को भूख का कष्ट झेलना पड़ता है। 472 : – nikamme athava aalasee vyakti ko bhookh kaContinue Reading

chanakya niti for success in life in hindi 466 : – दूसरे का धन किंचिद् भी नहीं चुराना चाहिए। 466 : – doosare ka dhan kinchid bhee nahin churaana chaahie. 467 : – दूसरों के धन का अपहरण करने से स्वयं अपने ही धन का नाश हो जाता है। 467Continue Reading

chanakya niti for success in life in hindi 461 : – कर्म करने वाले को मृत्यु का भय नहीं सताता। 461 : – karm karane vaale ko mrtyu ka bhay nahin sataata. 462 : – साधू पुरुष किसी के भी धन को अपना ही मानते है। 462 : – saadhooContinue Reading

chanakya niti for success in life in hindi 456 : – उपार्जित धन का त्याग ही उसकी रक्षा है। अर्थात उपार्जित धन को लोक हित के कार्यों में खर्च करके सुरक्षित कर लेना चाहिए। 456 : – upaarjit dhan ka tyaag hee usakee raksha hai. arthaat upaarjit dhan ko lokContinue Reading

chanakya niti for success in life in hindi 451 : – धनवान व्यक्ति का सारा संसार सम्मान करता है। 451 : – dhanavaan vyakti ka saara sansaar sammaan karata hai. 452 : – धनविहीन महान राजा का संसार सम्मान नहीं करता। 452 : – dhanaviheen mahaan raaja ka sansaar sammaanContinue Reading

chanakya niti for success in life in hindi 426 : – अपने तथा अन्य लोगों के बिगड़े कार्यों का स्वयं निरिक्षण करना चाहिए। 426 : – apane tatha any logon ke bigade kaaryon ka svayan nirikshan karana chaahie. 427 : – मूर्खों में साहस होता ही है। (यहाँ साहस काContinue Reading

chanakya niti for success in life in hindi 431 : – धर्म के समान कोई मित्र नहीं है। 431 : – dharm ke samaan koee mitr nahin hai. 432 : – धर्म ही लोक को धारण करता है। 432 : – dharm hee lok ko dhaaran karata hai. 433 :Continue Reading

chanakya niti for success in life in hindi 436 : – धर्म के द्वारा ही लोक विजय होती है। 436 : – dharm ke dvaara hee lok vijay hotee hai. 437 : – मृत्यु भी धरम पर चलने वाले व्यक्ति की रक्षा करती है। 437 : – mrtyu bhee dharamContinue Reading

441 : – विनाश का उपस्थित होना सहज प्रकर्ति से ही जाना जा सकता है। 441 : – vinaash ka upasthit hona sahaj prakarti se hee jaana ja sakata hai. 442 : – अधर्म बुद्धि से आत्मविनाश की सुचना मिलती है। 442 : – adharm buddhi se aatmavinaash kee suchanaContinue Reading