नष्ट हो जाते हैं। | Swami Vivekananda |

खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है।

To think of ourselves as weak is the biggest sin.

khud ko kamajor samajhana sabase bada paap hai.

 

धन्य हैं वो लोग जिनके शरीर दूसरों की सेवा करने में नष्ट हो जाते हैं।

Blessed are those people whose bodies are destroyed in serving others.

dhany hain vo log jinake shareer doosaron kee seva karane mein nasht ho jaate hain.

 

श्री रामकृष्ण कहा करते थे ,” जब तक मैं जीवित हूँ , तब तक मैं सीखता हूँ ”. वह व्यक्ति या वह समाज जिसके पास सीखने को कुछ नहीं है वह पहले से ही मौत के जबड़े में है।

Mr. Ramkrishna used to say, “I am learning as long as I am alive”. The person or society that has nothing to learn, is already in the jaw of death.

shree raamakrshn kaha karate the ,” jab tak main jeevit hoon , tab tak main seekhata hoon ”. vah vyakti ya vah samaaj jisake paas seekhane ko kuchh nahin hai vah pahale se hee maut ke jabade mein hai.

 

जीवन का रहस्य केवल आनंद नहीं है बल्कि अनुभव के माध्यम से सीखना है।

The secret of life is not only fun but learning through experience.

jeevan ka rahasy keval aanand nahin hai balki anubhav ke maadhyam se seekhana hai.

 

कामनाएं समुद्र की भांति अतृप्त है, पूर्ति का प्रयास करने पर उनका कोलाहल और बढ़ता है।

Desires are incomprehensible as the sea, when they try to fulfill their tumult and increase.

kaamanaen samudr kee bhaanti atrpt hai, poorti ka prayaas karane par unaka kolaahal aur badhata hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *