शत्रु से भी बड़ा || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 85

Chanakya Neeti In Hindi

421 : - अजीर्ण की स्थिति में भोजन दुःख पहुंचाता है।
421 : - ajeern kee sthiti mein bhojan duhkh pahunchaata hai.
422 : -रोग शत्रु से भी बड़ा है।
422 : -rog shatru se bhee bada hai.
423 : - सामर्थ्य के अनुसार ही दान दें।
423 : - saamarthy ke anusaar hee daan den.
424 : - चालाक और लोभी बेकार में घनिष्ठता को बढ़ाते है।
424 : - chaalaak aur lobhee bekaar mein ghanishthata ko badhaate hai.
425 : - लोभ बुद्धि पर छा जाता है, अर्थात बुद्धि को नष्ट कर देता है।
425 : - lobh buddhi par chha jaata hai, arthaat buddhi ko nasht kar deta hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: