चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 26

121 : - अन्न से बढ़कर कोई दान नहीं होता. गायत्री मंत्र सर्वश्रेष्ठ है और माता से श्रेष्ठ कोई नहीं है.
121 : - ann se badhakar koee daan nahin hota. gaayatree mantr sarvashreshth hai aur maata se shreshth koee nahin hai.
122: - संतोषी राजा, असंतोषी ब्राह्मण, लज्जावती वेश्या, और लज्जाहीन पत्नी- ये जीवन में कभी सुख-शांति और संपन्नता नहीं पा सकते. संतोषी राजा संतुष्टि के कारण राज्य का विकाश नहीं कर पता है. असंतोषी ब्राह्मण और अधिक लालसा के कारण अनाचरण पर उतर आता है. वेश्या अगर लज्जाशील हो तो उसका कामकाज बाधित होगा और लज्जाहीन पत्नी जग-हंसाई का कारण बनती है.
122: - santoshee raaja, asantoshee braahman, lajjaavatee veshya, aur lajjaaheen patnee- ye jeevan mein kabhee sukh-shaanti aur sampannata nahin pa sakate. santoshee raaja santushti ke kaaran raajy ka vikaash nahin kar pata hai. asantoshee braahman aur adhik laalasa ke kaaran anaacharan par utar aata hai. veshya agar lajjaasheel ho to usaka kaamakaaj baadhit hoga aur lajjaaheen patnee jag-hansaee ka kaaran banatee hai.
123 : - बिना गुरु के केवल पुस्तकों से ही ज्ञान प्राप्त करने वाला अवैध गर्भधारण करने वाली नारी के सामान होता है. जिस प्रकार अवैध संतान को समाज में उचित स्थान नहीं मिल पाता, उसी प्रकार बिना गुरु के प्राप्त ज्ञान को सम्मान नहीं मिलता, उसका कोई आधार नहीं होता है.
123 : - bina guru ke keval pustakon se hee gyaan praapt karane vaala avaidh garbhadhaaran karane vaalee naaree ke saamaan hota hai. jis prakaar avaidh santaan ko samaaj mein uchit sthaan nahin mil paata, usee prakaar bina guru ke praapt gyaan ko sammaan nahin milata, usaka koee aadhaar nahin hota hai.
124 : - अपमान, कर्ज का बोझ, दुष्टों कि सेवा, अनुसरण और पत्नी कि मृत्यु आदि बिना आग के ही शरीर को जला देते हैं .
124 : - apamaan, karj ka bojh, dushton ki seva, anusaran aur patnee ki mrtyu aadi bina aag ke hee shareer ko jala dete hain .
125 : - पति कि इच्छा के विरुद्ध पत्नी को कोई कार्य नहीं करना चाहिए. यहां तक कि पति की इच्छा के विरुद्ध उपवास-व्रत भी नहीं करने चाहिए, क्योंकि इस तरह पति कि आयु कम होती है और पत्नी को घोर नरक का पाप मिलता है.
125 : - pati ki ichchha ke viruddh patnee ko koee kaary nahin karana chaahie. yahaan tak ki pati kee ichchha ke viruddh upavaas-vrat bhee nahin karane chaahie, kyonki is tarah pati ki aayu kam hotee hai aur patnee ko ghor narak ka paap milata hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya niti चाणक्य नीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *