कायर व्यक्ति को कार्य || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 68

chanakya niti for success in life

336 : - परीक्षा किये बिना कार्य करने से कार्य विपत्ति में पड़ जाता है।
336 : - pareeksha kiye bina kaary karane se kaary vipatti mein pad jaata hai.
337 : - परीक्षा करके विपत्ति को दूर करना चाहिए।
337 : - pareeksha karake vipatti ko door karana chaahie.
338 : - अपनी शक्ति को जानकार ही कार्य करें।
338 : - apanee shakti ko jaanakaar hee kaary karen.
339 : - स्वजनों को तृप्त करके शेष भोजन से जो अपनी भूख शांत करता है, वाह अमृत भोजी कहलाता है।
339 : - svajanon ko trpt karake shesh bhojan se jo apanee bhookh shaant karata hai, vaah amrt bhojee kahalaata hai.
340 : - कायर व्यक्ति को कार्य की चिंता नहीं होती।
340 : - kaayar vyakti ko kaary kee chinta nahin hotee.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *