स्त्री के बारे में क्या कहते है चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 102

Chaanaky Ke Anamol Vichaar

506 : - स्त्री के प्रति आसक्त रहने वाले पुरुष को न स्वर्ग मिलता है, न धर्म-कर्म। 
506 : - stree ke prati aasakt rahane vaale purush ko na svarg milata hai, na dharm-karm.
507 : - स्त्री भी नपुंसक व्यक्ति का अपमान कर देती है।
507 : - stree bhee napunsak vyakti ka apamaan kar detee hai.
508 : - फूलों की इच्छा रखने वाला सूखे पेड़ को नहीं सींचता।
508 : - phoolon kee ichchha rakhane vaala sookhe ped ko nahin seenchata.
509 : - बिना प्रयत्न किए धन प्राप्ति की इच्छा करना बालू में से तेल निकालने के समान है।
509 : - bina prayatn kie dhan praapti kee ichchha karana baaloo mein se tel nikaalane ke samaan hai.
510 : - महान व्यक्तियों का उपहास नहीं करना चाहिए।
510 : - mahaan vyaktiyon ka upahaas nahin karana chaahie.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: