सफलता-असफलता के संकेत चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 103

Chaanaky Ke Anamol Vichaar

511 : - कार्य के लक्षण ही सफलता-असफलता के संकेत दे देते है।
511 : - kaary ke lakshan hee saphalata-asaphalata ke sanket de dete hai.
512 : - नक्षत्रों द्वारा भी किसी कार्य के होने, न होने का पता चल जाता है।
512 : - nakshatron dvaara bhee kisee kaary ke hone, na hone ka pata chal jaata hai.
513 : - अपने कार्य की शीघ्र सिद्धि चाहने वाला व्यक्ति नक्षत्रों की परीक्षा नहीं करता।
513 : - apane kaary kee sheeghr siddhi chaahane vaala vyakti nakshatron kee pareeksha nahin karata.
514 : - परिचय हो जाने के बाद दोष नहीं छिपाते।
514 : - parichay ho jaane ke baad dosh nahin chhipaate.
515 : - स्वयं अशुद्ध व्यक्ति दूसरे से भी अशुद्धता की शंका करता है।
515 : - svayan ashuddh vyakti doosare se bhee ashuddhata kee shanka karata hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: