भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 95

471 : - नीच की विधाएँ पाप कर्मों का ही आयोजन करती है।
471 : - neech kee vidhaen paap karmon ka hee aayojan karatee hai.
472 : - निकम्मे अथवा आलसी व्यक्ति को भूख का कष्ट झेलना पड़ता है।
472 : - nikamme athava aalasee vyakti ko bhookh ka kasht jhelana padata hai.
473 : - भूखा व्यक्ति अखाद्य को भी खा जाता है।
473 : - bhookha vyakti akhaady ko bhee kha jaata hai.
474 : - इंद्रियों के अत्यधिक प्रयोग से बुढ़ापा आना शुरू हो जाता है।
474 : - indriyon ke atyadhik prayog se budhaapa aana shuroo ho jaata hai.
475 : - संपन्न और दयालु स्वामी की ही नौकरी करनी चाहिए।
475 : - sampann aur dayaalu svaamee kee hee naukaree karanee chaahie.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: