धर्म के समान क्या || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 87

chanakya niti for success in life in hindi

431 : - धर्म के समान कोई मित्र नहीं है।
431 : - dharm ke samaan koee mitr nahin hai.
432 : - धर्म ही लोक को धारण करता है।
432 : - dharm hee lok ko dhaaran karata hai.
433 : - प्रेत भी धर्म-अधर्म का पालन करते है।
433 : - pret bhee dharm-adharm ka paalan karate hai.
434 : - दया धरम की जन्मभूमि है।
434 : - daya dharam kee janmabhoomi hai.
435 : - धर्म का आधार ही सत्य और दान है।
435 : - dharm ka aadhaar hee saty aur daan hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: