ज्ञानियों में भी दोष || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

Chanakya Neeti In Hindi

371 : - साधारण दोष देखकर महान गुणों को त्याज्य नहीं समझना चाहिए।
371 : - saadhaaran dosh dekhakar mahaan gunon ko tyaajy nahin samajhana chaahie.
372 : - ज्ञानियों में भी दोष सुलभ है।
372 : - gyaaniyon mein bhee dosh sulabh hai.
373 : - रत्न कभी खंडित नहीं होता। अर्थात विद्वान व्यक्ति में कोई साधारण दोष होने पर उस पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए।
373 : - ratn kabhee khandit nahin hota. arthaat vidvaan vyakti mein koee saadhaaran dosh hone par us par jyaada dhyaan nahin dena chaahie.
374 : - मर्यादाओं का उल्लंघन करने वाले का कभी विश्वास नहीं करना चाहिए।
374 : - maryaadaon ka ullanghan karane vaale ka kabhee vishvaas nahin karana chaahie.
375 : - शत्रु द्वारा किया गया स्नेहिल व्यवहार भी दोषयुक्त समझना चाहिए।
375 : - shatru dvaara kiya gaya snehil vyavahaar bhee doshayukt samajhana chaahie.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: