चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 132

656 : - शास्त्रों के न जानने पर श्रेष्ठ पुरुषों के आचरणों के अनुसार आचरण करें।
656 : - shaastron ke na jaanane par shreshth purushon ke aacharanon ke anusaar aacharan karen.
657 : - शास्त्र शिष्टाचार से बड़ा नहीं है।
657 : - shaastr shishtaachaar se bada nahin hai.
658 : - राजा अपने गुप्तचरों द्वारा अपने राज्य में होने वाली दूर की घटनाओ को भी जान लेता है।
658 : - raaja apane guptacharon dvaara apane raajy mein hone vaalee door kee ghatanao ko bhee jaan leta hai.
659 : - साधारण पुरुष परम्परा का अनुसरण करते है।
659 : - saadhaaran purush parampara ka anusaran karate hai.
660 : - जिसके द्वारा जीवनयापन होता है, उसकी निंदा न करें।
660 : - jisake dvaara jeevanayaapan hota hai, usakee ninda na karen.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *