चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 120

chanakya niti for motivation

596 : - स्त्रियों का मन क्षणिक रूप से स्थिर होता है।
596 : - striyon ka man kshanik roop se sthir hota hai.
597 : - तपस्वियों को सदैव पूजा करने योग्य मानना चाहिए।
597 : - tapasviyon ko sadaiv pooja karane yogy maanana chaahie.
598 : - पराई स्त्री के पास नहीं जाना चाहिए।
598 : - paraee stree ke paas nahin jaana chaahie.
599 : - अन्न दान करने से भ्रूण हत्या (गर्भपात) के पाप से मुक्ति मिल जाती है।
599 : - ann daan karane se bhroon hatya (garbhapaat) ke paap se mukti mil jaatee hai.
600 : - वेद से बाहर कोई धर्म नहीं है।
600 : - ved se baahar koee dharm nahin hai.

Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *