चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 126

chanakya niti for motivation

626 : - अपने धर्म के लिए ही कोई सत्पुरुष कहलाता है।
626 : - apane dharm ke lie hee koee satpurush kahalaata hai.
627 : - स्तुति करने से देवता भी प्रसन्न हो जाते है।
627 : - stuti karane se devata bhee prasann ho jaate hai.
628 : - झूठे अथवा दुर्वचन लम्बे समय तक स्मरण रहते है।
628 : - jhoothe athava durvachan lambe samay tak smaran rahate hai.
629 : - जिन वचनो से राजा के प्रति द्वेष उत्पन्न होता हो, ऐसे बोल नहीं बोलने चाहिए।
629 : - jin vachano se raaja ke prati dvesh utpann hota ho, aise bol nahin bolane chaahie.
630 : - कोयल की कुक सबको अच्छी है।
630 : - koyal kee kuk sabako achchhee hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *