चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 140

696 : - नित्य दूसरे को समभागी बनाए।
696 : - nity doosare ko samabhaagee banae.
697 : - दिया गया दान कभी नष्ट नहीं होता।
697 : - diya gaya daan kabhee nasht nahin hota.
698 : - लोभ द्वारा शत्रु को भी भ्रष्ट किया जा सकता है।
698 : - lobh dvaara shatru ko bhee bhrasht kiya ja sakata hai.
699 : - मृगतृष्णा जल के समान है।
699 : - mrgatrshna jal ke samaan hai.
700 : - विनयरहित व्यक्ति की ताना देना व्यर्थ है।
700 : - vinayarahit vyakti kee taana dena vyarth hai.

Read more

1 thought on “चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 140

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: