चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 136

676 : - पराई वस्तु को पाने की लालसा नहीं रखनी चाहिए।
676 : - paraee vastu ko paane kee laalasa nahin rakhanee chaahie.
677 : - दुर्जन व्यक्तियों द्वारा संगृहीत सम्पति का उपभोग दुर्जन ही करते है।
677 : - durjan vyaktiyon dvaara sangrheet sampati ka upabhog durjan hee karate hai.
678 : - नीम का फल कौए ही खाते है।
678 : - neem ka phal kaue hee khaate hai.
679 : - समुद्र के पानी से प्यास नहीं बुझती।
679 : - samudr ke paanee se pyaas nahin bujhatee.
680 : - जिस प्रकार बालू अपने रूखे स्वभाव नहीं छोड़ सकता, उसी प्रकार दुष्ट भी अपना स्वभाव नहीं छोड़ पाता।
680 : - jis prakaar baaloo apane rookhe svabhaav nahin chhod sakata, usee prakaar dusht bhee apana svabhaav nahin chhod paata.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: