चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 24

 116 : - पराई स्त्री के साथ व्यभिचार करने वाला, गुरु और देवालय का धन हरण करने वाला और हर प्रकार के प्राणियों के साथ रहने वाला व्यक्ति यदि ब्राह्मण भी है तो वह चांडाल के सामान है
116 : - paraee stree ke saath vyabhichaar karane vaala, guru aur devaalay ka dhan haran karane vaala aur har prakaar ke praaniyon ke saath rahane vaala vyakti yadi braahman bhee hai to vah chaandaal ke saamaan hai 
117 : - पशुओं में कुत्ता, पक्षियों में कौआ, और मुनियों में पापाचरण करने वाला चांडाल कहलाता है, साथ ही परनिंदा करने वाला, चाहे वह किसी भी वर्ण का हो, चांडाल कहलायेगा.
117 : - pashuon mein kutta, pakshiyon mein kaua, aur muniyon mein paapaacharan karane vaala chaandaal kahalaata hai, saath hee paraninda karane vaala, chaahe vah kisee bhee varn ka ho, chaandaal kahalaayega. 
118 : - शास्त्रों में पाँच पिता बताये गए है: जन्मदाता, विद्या देने वाला गुरु, भय से बचाने वाला, यज्ञ से पवित्र करने वाला तथा धन देने वाला. इन सभी को अपने पिता समान आदर सम्मान देना चाहिए.
118 : - shaastron mein paanch pita bataaye gae hai: janmadaata, vidya dene vaala guru, bhay se bachaane vaala, yagy se pavitr karane vaala tatha dhan dene vaala. in sabhee ko apane pita samaan aadar sammaan dena chaahie. 
119 : - आदमी पर जब विपदा आती है तो वह अपना चोला बदल लेता है. शक्तिहीन होने पर व्यक्ति साधु बन जाता है. धनहीन होने पर ब्रह्मचारी, अस्वस्थता में ईश्वर भजन याद आता है, बुढ़ापे में स्त्रियाँ पतिव्रता होने का प्रदर्शन करने लग जाती हैं. ये सब ढोंग है. शक्तिशाली अनायास ही साधु नहीं बनता, धनवान कभी ब्रह्मचारी नहीं बनता, स्वस्थ होने पर व्यक्ति अपने ही राग रंग में खोया रहता है, उसे ईश-स्तुति का ख्याल नहीं रहता और यौवन से भरपूर स्त्री मन वचन से कभी पतिभक्त नहीं हो सकती.
119 : - aadamee par jab vipada aatee hai to vah apana chola badal leta hai. shaktiheen hone par vyakti saadhu ban jaata hai. dhanaheen hone par brahmachaaree, asvasthata mein eeshvar bhajan yaad aata hai, budhaape mein striyaan pativrata hone ka pradarshan karane lag jaatee hain. ye sab dhong hai. shaktishaalee anaayaas hee saadhu nahin banata, dhanavaan kabhee brahmachaaree nahin banata, svasth hone par vyakti apane hee raag rang mein khoya rahata hai, use eesh-stuti ka khyaal nahin rahata aur yauvan se bharapoor stree man vachan se kabhee patibhakt nahin ho sakatee. 
120 : - शरीर कि सुन्दरता के मोह में पड़कर व्यक्ति पथ भ्रष्ट हो जाता है, शरीर और चेहरे कि सुन्दरता का आकर्षण व्यर्थ है. हर स्त्री का सुख एक समान है, अतः व्यर्थ ही इस मृग- मरीचिका में पड़ना अनुचित है.
120 : - shareer ki sundarata ke moh mein padakar vyakti path bhrasht ho jaata hai, shareer aur chehare ki sundarata ka aakarshan vyarth hai. har stree ka sukh ek samaan hai, atah vyarth hee is mrg- mareechika mein padana anuchit hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya niti चाणक्य नीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *