चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 22

106 : - विषहीन सर्प को भी अपनी रक्षा के लिए फन फैलाना पड़ता है. (इसलिए शक्तिशाली न होते हुए भी शक्तिशाली होने का दिखावा करना आपकी रक्षा करता है.)
106 : - vishaheen sarp ko bhee apanee raksha ke lie phan phailaana padata hai. (isalie shaktishaalee na hote hue bhee shaktishaalee hone ka dikhaava karana aapakee raksha karata hai.) 
107 : - संसार रूपी इस वृक्ष के अमृत के समान दो फल है- सुन्दर बोलना और सज्जनों कि संगति करना.
107 : - sansaar roopee is vrksh ke amrt ke samaan do phal hai- sundar bolana aur sajjanon ki sangati karana. 
108 : - सत्संगति से दुष्टों में भी साधुता आ जाती है, किन्तु दुष्टों की संगति से साधुओं में दुष्टता नहीं आती . मिट्टी ही फूलों कि गंध को अपना लेती है, लेकिन फूल मिट्टी कि गंध नहीं अपनाते.
108 : - satsangati se dushton mein bhee saadhuta aa jaatee hai, kintu dushton kee sangati se saadhuon mein dushtata nahin aatee . mittee hee phoolon ki gandh ko apana letee hai, lekin phool mittee ki gandh nahin apanaate. 
109 : - उज्ज्वल कर्म करने वाला व्यक्ति यदि सैकड़ों वर्षों तक जीयें तो भी अच्छा है. किन्तु दोनों लोकों के विरुद्ध कार्य करने वाला व्यक्ति अगर पल भर भी जीये तो व्यर्थ है.
109 : - ujjval karm karane vaala vyakti yadi saikadon varshon tak jeeyen to bhee achchha hai. kintu donon lokon ke viruddh kaary karane vaala vyakti agar pal bhar bhee jeeye to vyarth hai. 
110 : - जिसमें गुण और धर्म है, वही मनुष्य जीवित माना गया है. गुण और धर्म से रहित मनुष्य का जीवन व्यर्थ है .
110 : - jisamen gun aur dharm hai, vahee manushy jeevit maana gaya hai. gun aur dharm se rahit manushy ka jeevan vyarth hai .

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya niti चाणक्य नीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: