उपकार का बदला चुकाने || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 117

581 : - देहधारी को सुख-दुःख की कोई कमी नहीं रहती।
581 : - dehadhaaree ko sukh-duhkh kee koee kamee nahin rahatee.
582 : - गाय के पीछे चलते बछड़े के समान सुख-दुःख भी आदमी के साथ जीवन भर चलते है।
582 : - gaay ke peechhe chalate bachhade ke samaan sukh-duhkh bhee aadamee ke saath jeevan bhar chalate hai.
583 : - सज्जन तिल बराबर उपकार को भी पर्वत के समान बड़ा मानकर चलता है।
583 : - sajjan til baraabar upakaar ko bhee parvat ke samaan bada maanakar chalata hai.
584 : - दुष्ट व्यक्ति पर उपकार नहीं करना चाहिए।
584 : - dusht vyakti par upakaar nahin karana chaahie.
585 : - उपकार का बदला चुकाने के भय से दुष्ट व्यक्ति शत्रु बन जाता है।
585 : - upakaar ka badala chukaane ke bhay se dusht vyakti shatru ban jaata hai.

Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: