अशांति उत्पन्न क्यों होती है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 73

Chanakya Neeti In Hindi

361 : - जो धर्म और अर्थ की वृद्धि नहीं करता वह कामी है।
361 : - jo dharm aur arth kee vrddhi nahin karata vah kaamee hai.
362 : - धर्मार्थ विरोधी कार्य करने वाला अशांति उत्पन्न करता है।
362 : - dharmaarth virodhee kaary karane vaala ashaanti utpann karata hai.
363 : - सीधे और सरल व्तक्ति दुर्लभता से मिलते है।
363 : - seedhe aur saral vtakti durlabhata se milate hai.
364 : - निकृष्ट उपायों से प्राप्त धन की अवहेलना करने वाला व्यक्ति ही साधू होता है।
364 : - nikrsht upaayon se praapt dhan kee avahelana karane vaala vyakti hee saadhoo hota hai.
365 : - बहुत से गुणों को एक ही दोष ग्रस लेता है।
365 : - bahut se gunon ko ek hee dosh gras leta hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: